जोकर – एक शिकारी जासूस (Full Story)

1. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 1

शाम का समय, कुछ नक्सलियों का समूह जंगल मे घूम रहा है। सूरज डूब रहा है हल्की रोशनी की किरणें आसमान में दिख रही है। जंगली जानवरो की आवाज और जंगलो में रहने वाले पक्षियों की आवाजें चारो तरफ गूंज रही है। तभी एक नक्सली कुछ आवाज सुनकर रुक जाता READ MORE

2. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 2

शाम का समय, एक छोटी से घर मे जोकर अपना सामान अपने बैग में रख रहा है दूसरे कमरे में बन्दूक रखी हुई है। बाहर की तरफ गलियों में एक शांति फैली हुई है। जोकर अपना जोकर वाला मास्क उठा कर अपने बैग में रख लेता है तभी बाहर कुछ अजीब सी आवाज आती READ MORE

3. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 3

सुबह का समय, एक मिनी बस हाईवे पर खड़ी है। चारो तरफ गाड़िया आ जा रही है। सामने एक चाय की छोटी सी दुकान है। जिसपर सभी लोग बैठे हुए है और चाय की चुस्की ले रहे है। सभी एक दूसरे को घूर रहे है मानो कोई बातचीत चालू करने का मौका READ MORE

4. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 4

चारो तरफ रात का अंधेरा फैला हुआ था। चांद ऐसा दिख रहा था मानो वह बड़ा हो रहा हो। चारो तरफ एक अजीब शांति फैली हुई थी। विशाखा कुर्सी से बंधी अपने आप को छुड़ाने का प्रयत्न कर रही थी। सामने बैठे स्लीपर सेल ने ज्यादा खून बह जाने के कारण अपना दम पहले ही तोड़ चुका था और उसके सीने में बंधे बम में बस कुछ सेकेंड ही बचे थे। विशाखा अपनी READ MORE

5. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 5

रेकोज गांव में बम विस्फोट की वजह से चारो तरफ अफरातफरी का माहौल बना हुआ था। चारो तरफ गोलियां चलने की आवाजें आ रही थी। हर तरफ धुंआ फैला हुआ था।  गाड़ी में विदुषक को देखकर सभी एकदम से खुश हो जाते है। विदुषक सबको गाड़ी में बैठने का इशारा करता है। सभी लोग तुंरन्त ही गाड़ी के बैठ जाते है और विदुषक गा READ MORE

6. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 6

समय, चारो तरफ शांति फैली हुई है। सभी लोग विशाखा के मुंबई वाले घर मे है और एक टेबल के आस पास बैठे हुए है। तभी कमरे में रॉनित प्रवेश करता है और चुपचाप एक कुर्सी पर बैठ जाता है। बाहर चिड़ियों की चहचहाट फैली हुई है। जिया बाहर के वातावरण में खोई हुई है।
तुम्हें कुछ पता चला? विशाखा ने रॉनित की तरफ देखते हुए पूछा।
जोकर ने सही पता किया है वह मुंबई 11 के एक खो READ MORE

7. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 7

शाम का समय, सभी लोग विशाखा के घर पर बैठे हुए है। सभी लोगो के चेहरे बिल्कुल उतरे हुए है मानो सब को सांप सूंघ गया हो। एक अलग ही शांति का वातावरण का माहौल बना हुआ है। तभी सभी लोग फिर से एक साथ कौशल से पूछते है। READ MORE

8. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 8

विदूषक एक होटल के कमरे में खिड़की के पास बैठ कर रो रहा है और बाहर एक सड़क पर लेमपोश की लाइट जल बुझ रही है। सड़क भी सुनसान है। READ MORE

9. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 9

शाम का समय है, सीलमपुर के रविवार बाजार में भीड़ भाड़ की रौनक फैली हुई है। विदूषक अपना भेष बदल कर बाजार में घूम रहा है। जोकर एक इमारत के ऊपर अपनी बन्दूक से निशाना लगाए खड़ा है तभी जोकर विदूषक को कॉल पर रहने को बोलता READ MORE

10. जोकर – एक शिकारी जासूस पार्ट 10

सुबह का समय, चारो तरफ समुन्दर बीच पर समुंद्री हवाएं चल रही है। चारो तरफ शांति। पक्षियों का शौर सुनाई दे रहा है। अभी बीच बिल्कुल खाली है। समुंद्री तट पर एक विशाखा और विदूषक बांहो में बांहे डाले लेटे हुए है। और शांत पड़े समुन्दर को देख रहे है। READ MORE