ताश के जादुई पत्ते पार्ट 3 – लेखक पवन सिकरवार

 अध्याय – 3 ताश की दोस्ती 


ईमान कई दिनों से स्कूल नहीं गया था। उसने इसी बीच कई टास्क पुरे किये थे जैसे  की खाली स्कूल से फाइल चुराना, बच्चो के कपडे चुरा कर उन्हें फाड् देना, दुसरो स्टूडेंट्स की स्केच बुक ख़राब कर देना और दुसरो की नोटबुक फाड़ना इतियादी

ऐसे ही कई टास्क ईमान को मिलते रहते है और ईमान कई ताश के पत्ते जीत रहा था और जब वापस ईमान अपने स्कूल गया तो वो ना सिर्फ अच्छा दिखने लगा था बल्कि और दुसरो से अच्छा भी बन गया था खेल में फुर्तीला और पढाई में सबसे आगे। जब भी ईमान शीशे में देखता था तो वह अपने बीते हुए कल के बारे में सोचकर ताश के पत्तो को धन्यवाद करता था। 

लेकिन वर्निका अब भी सिर्फ ताइवान से ही बात करती थी। ताइवान के आलावा वो ईमान को  देखती भी नहीं थी जिसकी वजह से ईमान के मन में कई बाते चल रही थी। उन दोनों को साथ देखकर ईमान जलभुन रहा था। वो अब ताइवान से किसी भी चीज़ में कम नहीं था फिर क्यों वर्निका उससे बात नहीं कर रही थी। 

“ये बात उसे खाये जा रही थी” वो ये बात पानी की टंकी में पानी को चालू करके उसके नीचे रखकर सोचने लगता है और पानी की धार उसके सिर पर पड़ रही थी। 

सभी लड़किया सिर्फ ईमान को ही देखे जा रही थी। उसका शरीर ऐसा लग रहा था मानो वो कोई फिल्मस्टार हो। 

है वर्निका क्या तुम्हे नहीं लगता की इन दिनों ईमान काफी बदल गया है? एक लड़की ने वर्निका से पूछा। 

नहीं तो”

हाँ तुम्हे क्यों लगेगा तुम्हारे पास तो पहले से ही एक बॉयफ्रेंड है! इतना कहकर सारी लड़किया हंसने लगती है। 

ये सुनकर वर्निका चौंक जाती है

दूसरी तरफ, 

MYSTIC CARDS GAME

ईमान अपने घर जा रहा था। तभी उसे कुछ ख्याल आता है और वह अपने फ़ोन में देखकर पूछता है 

मै तुम्हे क्या बुलाऊ?

तुम मुझे मिस्टर एक्स बुला सकते हो

ताइवान ने इतने कम समय में कितने पत्ते इकठ्ठे कर लिए है? ईमान ने अपने फ़ोन में देखते  हुए पूछा

मुझे परेशान मत करो क्योंकि वक्त में एक किताब पढ़ने में व्यस्त हूँ! 

तुम कौनसी किताब पढ़ रहे हो?

मै बाइबिल पढ़ रहा हूँ ये काफी अच्छी किताब है। 

क्या तुम्हे पता है यीशु आखिर में मर जाते है! ईमान मुस्कराते हुए कहता है। 

तुम कहानी मुझे पहले मत बताओ वरना मेरे पढ़ने का मजा किरकिरा हो जायेगा। 

और आखिर में यीशु वापस भी जिन्दा हो जाते है। 

तुम बहुत बढे कमीने हो ईमान! इतना सुनकर ईमान हसने लगता है। 

तभी ईमान को उसका दोस्त सुमित दिखाई देता है जिसे कुछ लड़के परेशान कर रहे थे। ईमान को अपने फिर से बीते हुए दिन याद आ जाते है जब उसको भी लड़के ऐसे ही पीटते थे। 

ईमान फुर्ती से उन लड़को को पीट देता है मानो उसके लिए ये बांये हाँथ का खेल हो। 

ईमान अपने कमजोर दोस्त सुमित की तरफ देखता है। 

ये तुमने कैसे किया ईमान?

इतना सुनकर ईमान बस एक ताश का पत्ता सुमित को देकर चला जाता है। 

रास्ते में जाते वक्त उसे ताइवान दिखाई पड़ता है। 

क्या तुमने सुमित को भी वो पत्ता दे दिया है? ताइवान ने एक चिढ़ के साथ पूछा। 

ईमान के फोन पर एक हसने वाला इमोजी आता है। ईमान बस उस समय के बारे में सोचता है जब उसने सुमित को बचाया और उसे कहा 

तुम क्यों ताकतवर नहीं होते हो सुमित?

MYSTIC CARDS GAME

ये तुम्हारे लिए कहना आसान है ईमान क्योंकि तुम फेमस हो गए हो लेकिन मेरे बारे में सोचो एकदम से ताकतवर होना इतना आसान नहीं होता है। 

लेकिन तुम्हे होना चाहिए। 

लेकिन कैसे? 

ठीक है मै तुम्हे भी एक मौका दूंगा जैसे किसी ने मुझे दिया! इतना कहकर ईमान एक पत्ता सुमित की तरफ फेंक देता है और सुमित उसे पकड़ लेता है। 

ये सब ईमान सोच ही रहा होता है तभी ताइवान बस एक चिढ़ के साथ कहता है। 

बधाई हो तुमने आज से एक जंग की शुरुआत कर दी है। 

ईमान वापस अपने घर आ जाता है और सोने वाले कपडे पहनकर छत पर बैठ जाता है। 

क्या हाल है मिस्टर एक्स? 

ठीक। 

क्या अब सुमित भी गेमर है?

कह सकते है। 

इसका मतलब अब स्कूल में तीन गेमर हो चुके है। मै, सुमित और ताइवान लेकिन क्या और भी गेमर मौजूद है? 

हम्म!

तुम्हे हो क्या गया है ? क्या तुम गुस्सा हो की मैने एक पत्ता सुमित को दे दिया है। 

हम्म मै तुमसे गुस्सा नहीं हूँ बस थोड़ा व्यस्त हूँ क्योंकि मुझे अकेले ही सभी गेमर को संभालना पड़ता है। 

और तुम्हारे सवाल का जबाब ये है की मै तुम्हे ये नहीं बता सकता हूँ की और कितने गेमर है क्योंकि इससे उनको खतरा हो सकता है। क्या मै तुमसे एक सवाल कर सकता हूँ?

तुमने जादुई पत्ता सुमित को क्यों दिया? 

इसका क्या जबाब दू? ये बताना तो मुश्किल है लेकिन मैने शायद इसलिए दिया क्योंकि मै उसे देना चाहता था। मुझे पता है केसा महसूस  होता है जब सब तुम्हे कमजोर समझ कर परेशान करे। 

लेकिन अगर सुमित ने किसी को इन जादुई पत्तो के बारे में बता दिया तो? 

कोई आखिर गेमर बनने के बाद भला क्यों बताएगा! लेकिन क्या तुम अब भी मुझसे गुस्सा हो?

MYSTIC CARDS GAME

अब इस बात से कोई  फर्क नहीं पड़ता है मै इसे अच्छा ही समझता हूँ इसलिए कोई बात नहीं! मिस्टर एक्स ने स्माइल का इमोजी भेजते हुये कहा। 

अगले दिन, 

जब ईमान वापस स्कूल जाता है तो वह बस अब सुमित के बारे में ही सोच रहा था। सभी क्लास में आकर अपनी जगह पर बैठ रहे थे। 

हो ना हो आप सुमित अच्छा दिखने लगा हो। मै बहुत उतसाहित हूँ ये देखने के लिए की सुमित अपनी कोई खासियत को ताकतवर किया है वैसे वो बहुत ही अच्छा दिखने लगा होगा! ईमान बस अपने आप से ही बात कर रहा था। 

तभी कमरे में सुमित प्रवेश करता है जो बिलकुल पहले की तरह ही दिख रहा था। कमजोर और भद्दा सा। वो बस जाकर अपनी कुर्सी पर बैठ जाता है। 

क्या सुमित ने जादुई पत्तो को इस्तेमाल अपने दिखने पर नहीं किया? तो क्या उसने अपनी अंदुरनी ताकत को बढ़ाया है? ईमान ने सुमित को देखते हुए सोचा। 

तभी एक लड़का सुमित को परेशान करने लगता है और उसके सिर के बाल पकड़कर हिलाने लगता है। सुमित का चेहरा लाल हो रहा था मानो अब वो अपने आपे से बाहर होने वाला हो। ये सब देखकर ईमान को भी गुस्सा आ रहा था लेकिन वो ये देखकर अब भी चुप था क्योंकि वो देखना चाहता था की गेमर बनने के बाद आखिर सुमित क्या कर सकता है। 

सुमित तभी एक घुसा उस लड़के के पेट में रसीद देता है और वो लड़का पीछे खड़ी अलमारियों से जाकर टकरा जाता है और बेहोश हो जाता है। 

सभी बच्चो में बेचैनी और घबराहट हो जाती है। 

कोई टीचर को बुलाओ! एक लड़का घबराहट होते हुए कहता है। 

नहीं कोई एम्बुलेंस को बुलाओ! एक लड़की बोलती है। 

MYSTIC CARDS GAME

सुमित बस एक शांत चेहरे से ईमान को देखता है मानो  उसे इन सब के लिए धन्यवाद कर रहा हो। 

सुमित मन ही मन खुश हो रहा था। 

क्या बात है ये तो  सच में अद्भुत है! अब कोई भी मुझे परेशान नहीं कर सकता है! इतना कहकर सुमित ईमान के बगल से निकलता है और एक मुस्कान के साथ कहता है “ तुम मेरे सच्चे दोस्त हो ईमान” 

वर्निका घबराई हुई सुमित को देख रही थी और ईमान की तीखी नजर वर्निका के चेहरे पर ही थी। 

उस बेहोश लड़के को सब घेर लेते है और उठाने की कोशिश करते है तभी एक लड़का खड़ा होता है और कहता है 

सुमित तुम एक नंबर के कमीने हो तुम उसके साथ ऐसा कैसे कर सकते हो हम सब तुम्हारे क्लासमेट है। 

क्लासमेट? क्या तुम मेरे क्लासमेट हो? जब ये लड़का मेरी कॉपी को फाड रहा था तब तुम क्लासमेट कँहा पर थे? जब ये परेशान करता है तब तुम कँहा पर थे? मै तुम्हे बताता हूँ की मुझपर हसने का क्या अंजाम होता है। 

तभी ईमान तेज़ी से उस लड़के और सुमित के बीचो बिच आ जाता है। 

बस सुमित रुक जाओ! ईमान ने अजीब नजरो से सुमित को देखते हुए कहा। 

वाह तुम बहुत तेज़ हो ईमान! सुमित ने कहा। 

बस बहुत हो गया! क्लास में तभी ताइवान की आवाज आती है। 

तभी क्लास में टीचर भी प्रवेश करते है। 

सुमित के हाँथ में दर्द होता है जिसकी वजह से सुमित क्लास छोड़कर भाग जाता है। और ये देखकर ईमान भी सुमित के पीछे जाता है लेकिन तभी ताइवान गैलरी में ईमान को रोक लेता है। 

तुमने ये क्या किया? क्या तुमने  पत्ता दान में देने के लिए चुराया था? ताइवान ने गुस्सा होते हुए कहा। 

MYSTIC CARDS GAME

वो बस सबके परेशान किये जाने की वजह से परेशान है उसे एक दोस्त की जरूरत है! ईमान ने जबाब दिया। 

तुम एक नंबर के बेब्कुफ़ हो। जिस तरह तुम एक गेमर बने हो लेकिन जरुरी नहीं की दूसरा भी वैसे ही बने। 

ईमान बस बिना कुछ कहे वंहा से चला जाता है। स्कूल में सुमित का नाम पुकारते हुए उसे ढूंढने की कोशिश करता है तभी उसे एक कमरे में सुमित दिखाई देता है। 

आखिरकार तुम मिल ही गए। 

क्या ईमान ये तुम हो। 

तुम्हे आखिर हो क्या गया है? 

कुछ नहीं। 

तुम इतने शक्तिशाली एक रात में कैसे हो गए क्या तुम एक दर्जन जादुई पत्तो का इस्तेमाल कर लिया है? 

ये सुनकर सुमित हसने लगता है और अपनी जेब बहुत सारे जादुई पत्ते निकालता है “ये सब मेने एक रात में पाया है”

तुम इतने ताकतवर हो गए वो भी कुछ ही पत्तो से? ईमान ने चौंकते हुए पूछा। 

अरे ईमान इसका मतलब तुम इन पत्तो के बारे में कुछ नहीं जानते हो। 

तुमने बस अपने दिखने पर ही इनका इस्तेमाल किया है और फुर्ती लाने में लेकिन जब मेने पहली बार ये जादुई पत्ता छुए तब मेने सोचा की ये एक मजाक है लेकिन जैसे जैसे मै इससे समझने लगा तब मै एक बात समझ पाया की ये हमारे दिखने और हमारी दिमागी शक्ति से भी ज्यादा शक्तिशाली है  

उदहारण के तौर पर अगर मैने इन जादुई पत्तो का इस्तेमाल अपनी सुरक्षात्मक शक्ति को बढ़ाने में किया तो मै बंदूक से चली गोली भी खा सकता हूँ और इसी तरह मै अपने शरीर को आसमान तक उछाल सकता हूँ 

इसी तरह अगर मेने अपने जादुई पत्ते को ताकत में प्रयोग किया तो मै अपने हांथो को इतना शक्तिशाली बना सकता हूँ की मै अपने हाँथ से दिवार को भी तोड़ दू। 

MYSTIC CARDS GAME

“ये जादुई पत्ते हमे सुपरनैचुरल शक्तिया देते है ईमान”

नोट – इसका चौथा भाग पढ़ने के लिए ईबुक स्टोर पर जाये 

2 Replies to “ताश के जादुई पत्ते पार्ट 3 – लेखक पवन सिकरवार”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *