ताश के जादुई पत्ते पार्ट 4 – लेखक पवन सिकरवार

 अध्याय – 4 ताश के पत्तो का फैलना 


रात का समय, चारो तरफ बारिश हो रही है और एक लड़का एक इमारत की लिफ्ट में है जो की पहले फ्लोर से सबसे आखिरी यानी की 14 फ्लोर पर जा रहा है।  लड़का काफी मोटा है और यही नहीं उसकी चमड़ी एकदम लटकी हुई है साथ ही वो दिखने में भी भद्दा है। 

वो लड़का सबसे आखिरी फ्लोर पर पहुँच जाता है। और वंहा से छत पर जाता है। अभी भी बारिश हो रही थी वो भींग रहा था। वह छत से पुरे शहर को नीचे देख रहा था। सड़के सुनसान पड़ी हुई थी। वह लड़का अपने बीते हुए कल के बारे में याद करता है की कैसे उसे स्कूल के लड़के परेशान करते है। कोई भी लड़की उससे बात करना नहीं चाहती है क्योंकि वो भद्दा दीखता है साथ ही वो ना किसी भी चीज़ में अच्छा भी नहीं है। 

क्या मुझे मर जाना चाहिए? वैसे भी किसी  को क्या फर्क पड़ेगा मेरे जिन्दा रहने के लिए! उस लड़के ने नीचे  देखता है। 

इतना कहकर  लड़का उस ईमारत से नीचे कूद जाता है लेकिन तभी कोई उसका हाँथ पकड़ लेता है और ऊपर खिंच लेता है। 

बिलकुल भी नहीं! एक आवाज आती है। 

जैसे ही वो लड़का पीछे देखता है तो एक लड़का खड़ा होता है जिसकी लम्बाई 6 फुट थी और जिसने अपना चेहरा छुपाने के लिए चोगा पहना हुआ था। 

तो तुम कौन हो? उस लड़के ने चौंकते हुए पूछा 

मै एक दोस्त हूँ ताइवान! तुम्हे जन्मदिन मुबारक हो! उस लड़के ने अपनी जेब से एक चमकता पत्ता निकाला और ताइवान की तरफ फेंक दिया। 

ताइवान एक सड़क पर अपने बीते हुए कल के बारे में सोच रहा था। की उसे   दिया था। सड़क के सामने सुमित खड़ा हुआ था। 

तुमने मुझे यंहा क्यों बुलाया? सुमित ने अजीब नजरो से ताईवान से पूछा। 

CARD GAME MAGIC

मुझे तुमसे कुछ जानना है! ताइवान ने जबाब दिया। 

जानना तो मुझे भी है! इतना कहकर सुमित एक घुसा ताइवान के मारने के लिए आगे बढ़ता है लेकिन ताइवान उस आक्रमण से बच जाता है और नीचे होकर फुर्तीले तरीके से लात मारकर दूसरी तरफ सुमित को गिरा देता है। 

मुझे पता था मै जानता था की तुम उच्च स्तरीय गेमर हो और तुम ही हो जिसने ईमान को वो जादुई पत्ता दिया! सुमित ने गिरे हुए हँसते हुए कहा। 

कमीना! ताइवान ने एक  मुस्कान के साथ अपने मन में ही कहा। 

तो तुम सुपरनैचुरल शक्तिया का इस्तेमाल कर सकते हो? सुमित ने खड़े होते हुए कहा। 

तुम क्या बकवास कर रहे हो? ताइवान ने एक तीखी नजर से सुमित को देखते हुए कहा। 

जब मेने मिस्टर एक्स से पूछा था की क्या मै दिव्य शक्तियों का प्रयोग कर सकता हूँ तो उसने कहा था की मै  लायक नहीं हूँ क्योंकि मेरे पास अभी हुकुम का गुलाम है लेकिन एक भी इक्का नहीं है लेकिन तुम्हारे पास पक्का दिव्य शक्तिया होंगी और मै तुमसे तब तक लडूंगा जब तक तुम अपनी शक्तिया मुझे दिखाते नहीं हो! इतना कहकर सुमित एक मुक्का फिर से ताइवान की तरफ मारने के लिए आगे बढ़ता है। 

लेकिन ताइवान वंहा से हट  जाता है और सुमित के मुक्के से धरती पर एक गड्डा हो जाता है। 

लगता है तुम सुपरहीरो फिल्मे ज्यादा ही देखते हो क्योंकि दिव्य शक्तियों जैसा कुछ नहीं  होता है! ताइवान ने एक जमाई लेते हुए कहा। 

दूसरी तरफ, 

CARD GAME MAGIC

एक ईमान अपने घर में अपने कंप्यूटर के सामने बैठा हुआ है। और उसको सुमित की वही बाते याद आ  रही है की वह इन जादुई पत्तो के बारे में कुछ नहीं जानता इसलिए वो कंप्यूटर के इंटरनेट पर इस बारे में सर्च करने लगता है। ताश के पत्तो से जुडी कहानिया और इतिहास को अच्छे से समझने की कोशिश करता है। 

सिर्फ भगवान ही किसी की जिंदगी को बदल सकते है लेकिन मिस्टर एक्स ने कहा था वो भगवान नहीं है बस गेम मास्टर है लेकिन क्या वो हम लोगो को दिव्य शक्तिया भी दे सकता है? 

दूसरी तरफ, 

सुमित लगातार ताइवान पर हमला करता रहता है लेकिन ताइवान उससे आसानी से बचती रहती है। तभी सुमित के हाँथ में दर्द होने लगता है और वो घुटनो के बल बैठ जाता है। 

इसलिए मैने तुम्हे यंहा बुलाया था एक चेतवानी देने के लिए क्योंकि अगर तुम ऐसे ही करते रहे तो तुम अपने ही हांथो से पत्ते तक फेंक नहीं  पाओगे! इतना कहकर ताइवान वंहा से जाने लगता है। 

तुम कौन हो मुझे रोकने वाले! सुमित ने दर्द से कराहते हुए कहा। 

आदिमानव की तरह बर्ताब करना बंद करदो जो सिर्फ आग जलाना चाहता है! ताइवान इतना कहकर चलने लगता है। 

रुको ताइवान तुम मिस्टर एक्स के बारे में कितना जानते हो? क्या तुमने उसे देखा है? सुमित ने पूछा। 

नहीं! इतना कहकर ताइवान वंहा से चला जाता है। 

अगले दिन, 

ईमान चुपचाप स्कूल की तरफ जा रहा था और उसके मन में कई सवाल और उदासी चल रही थी। 

मुझे ना ही सुमित ने मेसेज किया और ना ही वर्निका ने लेकिन मुझे दूसरे स्कूल के लोगो ने काफी मेसेज किये हुए है! ईमान ने फ़ोन में अपने इनबॉक्स को देखते हुए कहा। 

CARD GAME MAGIC

जैसे ही ईमान स्कूल पहुँचता है तो वंहा पर उसे पता चलता है की सुमित के उस दिन के बर्ताब की वजह से उस एक दिन के लिए संस्पेंड कर दिया गया है। ईमान की नजर ताइवान और वर्निका पर पड़ती है जो की आपस में बाते कर रहे थे। तभी एक लड़की ईमान के सामने खड़ी हो जाती है। 

क्या तुम मेरे साथ स्कूल के बाहर बर्गर लेने चलोगे? उस  लड़की ने मुस्कराते हुये पूछा। 

जी बिलकुल! ईमान इतना कहकर उस लड़की के साथ स्कूल के बाहर चला जाता है जंहा पर उसे झाड़ियों में बैठा हुआ सुमित दिखाई देता है इसलिए वो सुमित से मिलने जाता है। 

क्या तुम्हे स्कूल आना था? ईमान ने सुमित से पूछा। 

मै तुमसे ही मिलने आया था ईमान! सुमित ने जबाब दिया। 

हाँ बोलो! ईमान ने मुस्कराते हुए कहा। 

तुम्हारे पास इस वक्त कितने पत्ते है? और उसका प्रयोग तुमने  किसलिए किया? सुमित ने पूछा। 

थोड़े बहुत ही है। दरअसल टेस्ट चालू हो चुके है तो समय ही नहीं मिला है! ईमान ने हँसते हुए कहा। 

वैसे तुम्हारा हाँथ क्या अब भी गर्म है? ईमान ने हाँथ की तरफ देखते हुए पूछा। 

उस बात को तुम छोड़ दो ईमान क्योंकि बहुत जल्द मै कुछ महत्वपूर्ण बात जानने वाला हूँ खासतौर पर मिस्टर एक्स से जुडी! सुमित ने जबाब दिया। 

वाह ये तो बहुत अच्छी बात है! ईमान ने खुश होते हुए कहा। 

सभी लोग तब तक ईमान को घेर लेते है। और सुमित वंहा से चला जाता है तभी उसे एक मेसेज आता है 

“क्या तुम नए टास्क के लिए तैयार हो” 

सुमित उसपर ओके का बटन दबा देता है जिसमे तीन टास्क लिखे होते है 

पहला आधी रात को स्कूल में घुसो और दूसरा अपनी क्लास रूम में पेट्रोल छिड़को गलती से और आखिरी जलता हुआ लाइटर फेंको”

CARD GAME MAGIC

सुमित इस टास्क को देखकर मुस्करा जाता है और धीमे मुस्कान के साथ कहता है “कल मिलते है” 

शाम के समय, 

कुछ लड़किया और लड़के अब भी स्कूल से वापस अपने घर जा रहे थे क्योंकि उनकी एक्स्ट्रा क्लास चल रही थी। सभी आपस में बाते कर रहे थे। तभी उनकी नजर बंद पड़े स्कूल पर पड़ती है। 

कितना डरवाना लग रहा है ना ये? सभी इतना कहते हुए चले जाते है। 

झाड़ियों में अब ही सुमित एक पेट्रोल की बोतल लिए खड़ा होता है। वो बस आधी रात का इंतज़ार कर रहा था। तभी वह अपनी घड़ी में देखता है तो आधी रात हो चुकी थी इसलिए सुमित छुपते हुए स्कूल में घुसता है। 

दूसरी तरफ, 

अपने कमरे में ईमान बैठा होता है तभी उसके घर की घंटी  बजती है तो वो जैसे ही घर का दरवाजा खोलता है तो सामने सुमित होता है। 

तुम इस वक्त सुमित? ईमान चौंकते हुए पूछता है। 

ईमान मेरी मदद करो क्योंकि ये पत्ते मेरी जान ले लेंगे! सुमित ने घबराते होते हुए कहा। 

लेकिन कैसे? ईमान अजीब नजर से सुमित की तरफ देखते हुए पूछता है। 

ये देखो! इतना कहकर सुमित अपने हाँथ से कमीज ऊपर करता है तो उसका हाँथ पूरा कटकर नीचे गिर रहा होता है। 

ये तुम्हारे हाँथ को क्या हो गया है! इतना कहते ही ईमान एकदम से घबराते हुए उठ बैठता है। 

अच्छा हुआ ये सिर्फ एक सपना ही था! ईमान ने उठते हुए कहा। 

तभी वो अपने फ़ोन पर मेसेज देखता है तो सुमित का मेसेज आया हुआ होता है “कल मै तुम्हे एक खास बात बताऊंगा” 

दूसरी तरफ, 

सुमित अपनी क्लास में जाता है। तो वंहा चारो तरफ अँधेरा होता है। 

CARD GAME MAGIC

चलो एक टास्क तो पूरा हुआ अब दूसरा टास्क पूरा करने की बारी है इतना कहकर अपने कमरे में पैट्रॉल डाल देता है और फिर जैसे ही जलता हुआ लाइटर फेंकता है तो वह पेट्रोल से कुछ दुरी पर जाकर गिरता है। 

सुमित जल्दी से क्लास से बाहर आ जाता है तभी सामने से आते हुए उसे गॉर्ड दिखाई देते है जो की टोर्च लेकर आ रहे होते है इसलिए वह जल्दी से भागकर नीचे वाले फ्लोर पर जाता है लेकिन लिफ्ट की वजह से पहले ही वो गॉर्ड नीचे सीढ़ियों पर पहुँच चुके थे और उसे पकड़ने के लिए ऊपर की तरफ भागते है। 

सुमित अपने आप को बचाने के लिए जल्दी से वापस ऊपर भागता है और एक कमरे में घुस जाता है और  अंदर से दरवाजा बंद कर लेता है। तभी सुमित को महसूस होता है की वो उसी कमरे में है जिसमे उसने पेट्रोल छिड़का होता है तभी लाइटर से पेट्रोल छू जाता है और कमरे  में एक विस्फोट होता है और सुमित की खिड़की से बाहर जाकर गिरता है जो की तीसरी मंजिल पर थी। 

अगले दिन, 

ईमान आज पहली बार स्कूल जल्दी जा रहा था तभी उससे वर्निका  दिखाई देती है। 

ओह हेलो वर्निका तुम क्या रोजाना  इतनी जल्दी स्कूल आते हो? 

नहीं वो आज कल मेरी म्यूजिक क्लास होती है इसलिए जल्दी आना पड़ता है! वर्निका अपनी आंख मलते हुए कहती है। 

दोनों साथ में चलते हुए स्कूल में जैसे ही घुसते है तो एक जगह पर भीड़ जमा हो रखी थी। ईमान सबको धक्का देते हुए जैसे ही उस भीड़ के सामने आता है तो सामने सुमित मरा हुआ पड़ा हुआ था। 

तब तक वर्निका भी सामने पहुँच जाती है लेकिन तभी ईमान उसके आँखों पर होने हाँथ  रख देता है और उसे वंहा से ले जाने लगता है। 

CARD GAME MAGIC

ईमान की नजर स्कूल के बच्चो पर जाती है तो सबके पास जादुई पत्ते होते है। और छत पर ताइवान खड़ा होता है। 

2 Replies to “ताश के जादुई पत्ते पार्ट 4 – लेखक पवन सिकरवार”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *