प्यारा सावन – ओ पी मेरोठा हाड़ौती कवि

प्यारा सावन
————————-
सावन का महीना है कितना प्यारा
काले – काले बादल दिल हुआ आवारा

हर पंछी गीत गाए मन , मस्त मगन हो जाये
हर कोई खो जाए जब , सावन की बहार छाये

सावन का ये मौसम कुछ याद दिलाता है
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है

सावन का संदेश मिला जब महक उठी पुरवाई
बूंदों ने छेड़ी है सरगम रूत ने ली अंगड़ाई

खिलते हैं दिलों में फूल सनम सावन के सुहाने मौसम में
होती है सभी से भूल सनम सावन के सुहाने मौसम में

सपनों में भी मिल ना सके अब नींद भी तेरे साथ गयी
सावन आग लगा कर चल दिया रो रो के बरसात गयी ।

ओ पी मेरोठा हाड़ौती कवि
बारां राजस्थान
मो.- 8875213775

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *