युगान्तर – एक सूरज जो रात को निकलता है पार्ट 2

       अध्याय –  2 युगान्तर और करुण 


रात का समय, चारो तरफ शांति फैली हुई है और युगान्तर बस सोने की कोशिश कर रहा है।

उसकी बेचैनी बढ़ती है की वह कहानी की शुरुआत कैसे करे।

वह पहले ही सभी किरदार के नाम और उनके रिश्ते एक कागज पर तैयार कर चुका था।

युगान्तर बस अपने कमरे में बैठा एक सोच में डूबा हुआ था

और एक अपने फ़ोन पर कहानी लिखना शुरू किया।

युगान्तर की कोशिश थी कि वह अपने पहले अध्याय में सिर्फ शुरुआती रहस्य की शुरुआत करे जो कि मूल रूप था कहानी का। 

युगान्तर का मानना था कि किसी भी कहानी का मुख्य किरदार उस कहानी का नायक नही

बल्कि उस कहानी में छुपा रहस्य होता है।

युगान्तर पूरी कहानी रातभर लिखता रहता है

और सुबह उठकर वह उस कहानी के साथ अपने कॉलेज में चला जाता है।

अब युगान्तर कॉलेज में अकेला समय ही बिताता था इसलिए वह चुपचाप उस कहानी को एक चिट्ठी के साथ उस सीरियल टीम को भेज देता है। 

युगान्तर को वापस जबाब की उम्मीद नही थी।

कॉलेज खत्म होते ही वह अपनी मम्मी के बताए हुए उस क्लिनिक में चला जाता है जो कि उसके घर के काफी नजदीक ही था। 

डॉक्टर जैसे ही युगान्तर को देखते है वह उनसे बिना किसी सवाल किए ही उसे नॉकरी पर रख लेते है और कल से आने के लिए कह देते है।

युगान्तर को इस नॉकरी से 1500 रुपये मिलते लेकिन इसमें छुट्टी नही थी।

उसे रविवार को भी आना था। 

युगान्तर अब एक हफ्ते तक इसी रोजाना क्षेणी को अपनाता रहा।

युगान्तर को अब तक उस सीरियल से कोई जबाब नही आया था इसलिए युगान्तर काफी निराश हो चुका था।

कॉलेज में भी वह बस चुपचाप रहता था।

आएशा जब भी उसको दिखती तो वह अपना रास्ता बदल लेती या उसको नजरअंदाज करके चली जाती थी।

SPIRITUAL STORIES

युगान्तर को लग रहा था जैसे वह मजबूर हो।

कुछ हफ़्तों के बाद युगान्तर के पिताजी को एक सरकारी होसिप्टल में ले जाया गया और उनका इलाज शुरू हो चुका था।

युगान्तर के मकान मालिक का किराया भी लगातार बढ़ रहा था।

और इलाज के लिए भी काफी ज्यादा कर्जा लेना पड़ा। 

अब एक महीना बीत चुका था। युगान्तर अब पढ़ाई पर ध्यान दे रहा था और वह क्लास में एक नालायक बच्चे से होशियार विद्यार्थी बनता जा रहा था। अध्यापक भी उसे पसंद कर रहे थे। 

एक दिन इसी तरह युगान्तर वापस अपने घर की तरफ जा रहा था और जैसे ही वह घर पहुंचता है तो उसकी बहन की आवाज सुनाई देती है।

युग तेरे लिए दोपहर में चिठ्ठी आई है! युगान्तर की बहन ने कहा।

युगान्तर तुरन्त ही उस चिठ्ठी को खोलता है तो वह उसी सीरयल की तरफ से आई थी और उसका अध्याय उस सीरियल के लिए चुन ली गई थी।

वह एकदम से खुश हो जाता है।

क्योंकि उसमें पांच हज़ार रुपये भी थे।

युगान्तर को अब अगले अध्याय अगले हफ्ते के शनिवार को देना था। 

वह एकदम से खुश हो जाता है।

क्योंकि उसमें पांच हज़ार रुपये भी थे।

युगान्तर को अब अगले अध्याय अगले हफ्ते के शनिवार को देना था। 

युगान्तर क्लिनिक जाता है और वह खाली समय मे लिखने की कोशिश करता है।

भले ही उसके लिए ये समय कठिन था क्योंकि कॉलेज में पढ़ाई, पार्ट टाइम जॉब और फिर ये काम तीनो को संभालने में उसे दिक्कत तो आ रही थी।

दो दिन बीत चुके थे और दूसरे अध्याय में उसने अपने नायक डिटेक्टिव करुण नायर और सुजान चटर्जी को अपनी कहानी में प्रस्तुत कर चुका था। 

SPIRITUAL STORIES

युगान्तर सारे पैसे घर वालो को दे देता है और फिर से दूसरे अध्याय को उस सीरयल टीम के पास कुरियर कर देता है। 

एक हफ्ता बीत जाता है।

युगान्तर की उम्मीदें काफी बढ़ रही थी।

उसका अपना दिनचर्या में मन लगना कम होता जा रहा था।

वही कॉलेज से क्लीनिक और फिर घर। 

रविवार का दिन, 

युगान्तर के घर फिर से कुरियर आता है जिसमे पैसे रखे हुए थे और अगले शनिवार को एक और अध्याय भेजने के लिए कहा गया।

युगान्तर एकदम से खुश हो जाता है और पैसे तुरन्त अपनी मम्मी को दे देता है

उसने दो हफ़्तों में दस हज़ार कमा लिया था। 

युगान्तर अब तीसरे अध्याय के बारे में सोच रहा था उसने आधा अध्याय लिख लिया था लेकिन आधा अध्याय बाकी था क्योंकि वह समझ नही पा रहा था कि आखिर एक आत्महत्या को वो कैसे कत्ल साबित करे। युगान्तर ज्यादातर रात को ही लिखता था क्योंकि पूरे दिन वह व्यस्त रहता था। वह बस चुपचाप अपने फ़ोन पर टाइप करता था। लेकिन अब उसे बिल्कुल भी समझ नही आ रहा था की आखिर वह क्या करे।

तीन दिन बीत चुके थे।

युगान्तर तीन दिनों से अच्छे से सोया नही था क्योंकि वह हाँथ लगी कमाई को खत्म करने वाला था।

उसके लिए ये बेचैनी खाये जा रही थी। वह देर रात तक जागता रहता था। 

तीन दिन से ठीक से ना सोना और एक जोरदार बेचैनी की वजह से वह चिड़चिड़ा हो गया था। 

अगले दिन, 

रात का समय, चारो तरफ एक शांति फैली हुई थी।

युगान्तर बैठा हुआ एक कागज पर कहानी के आगे की कड़ी ढूंढने की कोशिश कर रहा था।

उसके कमरे में सभी लोग बैठे हुए थे। तभी वह अचानक ही जोर से चिल्लाता है। 

SPIRITUAL STORIES

क्या आप लोग कुछ समय के लिए चुप हो सकते है? युगान्तर ने गुस्से में कहा।

लेकिन हम सभी तो काफी देर से चुप बैठे हुए है! युगान्तर के पिता ने जबाब दिया। 

सभी घर वाले अजीब नजर से युगान्तर को देख रहे थे।

युगान्तर भागकर दूसरे कमरे में चला जाता है और सोचने लगता है कि जब सब चुप थे तो मुझे शौर क्यो सुनाई दे रहा था। 

कुछ समय बाद सभी लोग सो जाते है और युगान्तर की आंख तीन बजे रात को खुल जाती है और वह चुपचाप बाहर आ जाते है और फिर से फ़ोन में डॉक्यूमेंट खोलकर उसमे आगे की कहानी लिखने की कोशिश करने लगता है। 

तभी सामने एक डिटेक्टिव जैसे कपड़े पहने है और करुण को जिस तरह का कहानी में दर्शाया गया था वैसा एक आदमी वंहा खड़ा हुआ था और युगान्तर को देख रहा था। 

जैसे ही युगान्तर की नजर उसपर पडी तो वह बस एक मुस्कान के साथ कहता है। 

क्या तुम्हें मेरी मदद चाहिए? 

युगान्तर एकदम से डर जाता है और बिना चिल्लाए बस वापस आकर बिस्तर में लेट जाता है। 

लेकिन कोई आवाज नही थी इसलिए वह फिर से उठकर बाहर देखने के लिए जाता है और जैसे ही वह बाहर की तरफ झांकता है तो सामने करुण खड़ा होता है और वह फ़ॉर से वही बात दुबारा बोलता है कि क्या तुम्हें मदद चाहिए? 

तुम कौन हो? क्या एक भूत ? इतना कहकर युगान्तर करुण के पैरों की तरफ देखता है जो बिल्कुल सीधे थे।

नही! मै एक भूत नही हूँ! करुण ने जबाब दिया।

तो क्या एक जिन्न हो? युगान्तर घबराए हुए पूछता है।

नही मै एक जिन्न नही हूँ! करुण ने कहा।

तो तो फिर क्या हो? युगान्तर ने अजीब नजरो से देखते हुए पूछा।

SPIRITUAL STORIES

मै एक सम्भवना हूँ एक ऐसा विचार या दर्शय जिसे तुम हकीकत भी बना सकते हो और चाहो तो कल्पना भी रख सकते हो! करुण ने तारो की देखते हुए कहा।

मै कुछ समझा नही! एक सम्भवना? 

मेरा अर्थ यह है कि मै जो हूँ वो तुम पर निर्भर करता है।

सम्भवना ये भी हो सकती है मै कुछ भी नही हूँ और सम्भवना ये भी हो सकती है कि मै बहुत कुछ हूँ! करुण ने घर की तरफ देखते हुए कहा।

सम्भवना? मै कुछ समझ नही पा रहा हूँ। युगान्तर इतना कहकर करुण को छूने की कोशिश करता है लेकिन करुण वंहा से हट जाता है। 

इंसान की पहचान और परख हमेशा उसके काम से करनी चाहिए। पूर्वानुमान लगाना अक्सर आने वाली सफलता को खो देता है। जो हो रहा है उसे तार्किक दृष्टि से देखो की क्या वो फायदेमंद है ना कि पूर्वानुमान की दृष्टि से। फायदा अक्सर लोगो को लालची बनाता है जिससे या तो दुर्घटना होती है या अपराध 

एक छोटी सी कहानी के अनुसार 

एक किसान पूर्वानुमान लगाता है कि अगर इस साल बारिश ज्यादा हो रही है तो वह गन्ने की खेती करके अच्छा कमा सकता है और वह गन्ने की खेती शुरू कर देता है उसकी फसल भी काफी अच्छी होती है। जिससे वह अपने पूर्वानुमान लगाने की क्षमता पर गर्व करने लगता है लेकिन जब गन्ने की कटाई का समय आता है तो बारिश ज्यादा होने की वजह से नदी उफान मारती है और उस जगह पर बाढ़ आ जाती है जंहा उसके खेत थे जिसकी वजह से उसकी फसल खराब हो जाती है। 

SPIRITUAL STORIES

कुछ भी समय के साथ नही चलना चाहिए जो लोग ऐसी अवधारणा बनाते है की जैसा चल रहा है वैसा चलने दो वो अक्सर धोखे खाते रहते है। समय के खिलाफ होकर प्रकाश के साथ हो जाओ 

क्योंकि अगर तुम प्रकाश के साथ हो तो तुम समय को भी पीछे छोड़ सकते हो पकृति के नियम तोड़े जा सकते है बस उसके लिए भी एक खास प्रणाली है। करुण इतना कहकर युगान्तर की तरफ देखता है।

लेकिन तुम सच मे क्या हो? युगान्तर लगातार अब बेचैन हो रहा था।

मै करुण नायर हूँ जिसे तुम लिख रहे हो और जो तुमने लिखा वो सब सच है। लेकिन मेरे अस्तित्व के तथ्य अब मिटा चुके है लेकिन मै मरा नही हूँ मेरा अस्तित्व तुमसे जुड़ा है इसलिए मै तुम्हारी मदद करने के लिए आया हूँ! करुण ने जबाब दिया।

कैसी मदद? युगान्तर ने पूछा।

कहानी को आगे बढ़ाने की मदद क्योंकि कहानी मेरी है जो कि आगे क्या हुआ वो सिर्फ मै जानता हूँ और इसमें मै ही तुम्हारी मदद भी कर सकता हूँ! करुण ने जबाब दिया।

ओर इसके बदले तुम्हे क्या चाहिए?

अभी फिलहाल कुछ नही बस सही समय पर मै जरूर तुमसे मदद मांगूगा! करुण ने जबाब दिया। 

लेकिन मेने अगर तुम्हारी मदद नही की तो? युगान्तर ने एक अजीब नजर से पूछा।

तो भी कोई बात नही क्योंकि तुम और मै एक ही है! करुण इतना कहकर कहानी के आगे की कड़ी बताने लगता है और युगान्तर उसे तुरन्त ही टाइप कर लेता है। लगभग 4 बज चुके थे। 

अब मुझे चलना चाहिए! इतना कहकर करुण गायब हो जाता है।

लेकिन तुम्हे मै फिर से वापस कैसे बुलाऊंगा? युगान्तर एकदम से चिल्लाते हुए कहता है। 

लेकिन तब तक वो जा चुका था। 

SPIRITUAL STORIES

जैसे ही युगान्तर अपनी कहानी की तरफ देखता है तो वह बस मुस्करा जाता है।

SPIRITUAL STORIES

4 Replies to “युगान्तर – एक सूरज जो रात को निकलता है पार्ट 2”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *