“योग साधना करते हम” – RAJNI SHARMA

“योग साधना करते हम”

योग साधना करते हम,
निज स्वास्थ्य संवारे हम।
भले बुरे का ज्ञान कराकर,
जीवन में परिवर्तन लाते हम।
ब्रह्म चेतना से मिलन कराकर,
योग साधना करते हम………..
स्वार्थ से परमार्थ में जाकर,
संतोष धन नित्य ही पाएं हम।
विनय, विवेक से सफल होकर,
आंतरिक शुद्धि करते हम।
योग साधना करते हम…….
तन – मन से बलशाली बनकर,
आत्म शांति की प्राप्त करते हम ।
स्वास्थ्य का उपहार है देकर,
मन कर्म से अनुशासित रहते हम।
मंगल कामना करते हम,
योग साधना करते हम…….
योग से निरोगी होकर,
उपयोगी बन स्नेह लुटाते हम।
सहयोग सदा सभी का करते हम।।
योग साधना करते हम।
योग साधना करते हम।। “रजनी शर्मा (अध्यापिका)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *