सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर (Full Story)

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 1

रात का समय चारो तरफ अंधेरा फैला हुआ था। एक अजीब सी शांति फैली हुई थी। चार्लविले बंगले के चारो तरफ घना जंगल फैला हुआ है। यह बंगला 100 साल पुराना था जो की लश ग्रीन हिल पर बना हुआ था। इसको ब्रिटिश  Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 2

सुबह का समय, कालका शिमला एक्सप्रेस सुरंग नंबर 33 से गुजरने वाली है। विरुद्ध और कुणाल अपने बर्थ पर सोये हुए है जैसे ही ट्रैन सुरंग नंबर 33 के अंदर से गुजरती है तभी विरुद्ध Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 3

सभी घर के सदस्य स्तब्ध खड़े है मानो उन्होंने किसी तरह की आत्मा देख ली हो। सामने विरुद्ध अपनी बांहो में लिए गौरी के साथ खड़ा है और गौरी बेहोश पड़ी हुई है। पीछे  Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 4

सुबह का समय , सभी लोग कुलेश की चिता को आग देकर वापस घर आ चुके थे। घर के सभी अपने अपने कमरों में थे मानो कुलेश की मौत का किसी को भी ज्यादा गहरा सदमा ना लगा हो। विरुद्ध अपने Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 5

शाम का समय, विरुद्ध अपने कमरे में लेटा हुआ है और कुणाल अपने बिस्तर पर बैठा एक भूतिया किताब पढ़ने में मग्न है। सूरज डूब चूका है। एक अजीब Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 6

शाम का समय, सूरज डूब रहा है उसकी हल्की किरणे आसमान से जमीन को छू रही है। बादलों का संतरी रंग के होने की वजह से आसमान में एक अलग ही प्रकृतिक दृश्य बन गया है। विरुद्ध Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 7

सुबह का समय चारो तरफ पक्षियों की कोलाहल की आवाजें आ रही थी। दुलाधार एक्सप्रेस अपने नियमित समय पर पठानकोट प्लेटफार्म पर पहुंच चुकी थी। चारो  Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 8

शाम का समय चारो तरफ बंगले में लाइट  की झालर लगी हुई है। अंदर सुसिमता के जन्मदिन की दावत चालू हो चुकी है। चारो तरफ मेहमानों की भीड़ है। सुसिमता घर मे आये Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 9

रात के 12 बज चुके थे मानो चारो तरफ एक भयंकर अंधकार फैल चुका हो। उल्लुओं की आवाजें आ रही थी। बाहर जंगल में एक अजीब सा धुंआ फैलने लगा था। सुसिमता ते.. Read More

सत्यान्वेषी – एक रहस्यमय सफर पार्ट 10

सुबह का समय, चारो तरफ एक रोशनी फैली हुई है मानो कोई अजीब सी विजय का भास हो रहा हो। सभी घरवाले कुंए के पास खड़े है। विरुद्ध के हाँथो में एक थैली पकड़े हुए है जिसमे  Read More