समुन्द्र में उड़ता जहाज – फ्लाइंग डचमैन

फ्लाइंग डचमैन एक ऐसा जहाज जिसकी परछाई पानी में नहीं हवा में उलटी दिखाई देती है!

अफ्रीका के तटीय समुन्द्र में जहाज पर नाविक ईश्वर से मौसम खराब ना होने की प्रार्थना करते हैं

इसलिए नहीं कि ये नाविक तूफानों से डरते हैं

बल्कि इसलिए क्योंकि मौसम खराब होने पर उन्हें “फ्लाइंग डचमैन” दिखाई देता है

और इस जहाज का दिखना एक अभिशापित भविष्यवाणी है जो किसी की मौत के साथ पूरी होती है।

१७ वीं सदी की मिथक लोककथाओं के मुताबिक़ फ्लाइंग डचमैन एक ऐसा भूतिया जहाज है जो कभी बंदरगाह तक नहीं पहुँच पाया।

इन मिथक कथाओं के अनुसार इस भूतिया जहाज को तेज रोशनी फैंकने वाले जहाज के तौर पर देखा जाता है

और जब ये रोशनी किसी को दिखाई देती है तो वो जल्द ही मौत की नींद में सो जाता है।

उद्गम-:

समय समय पर कई लेखकों ने अपनी किताबों में इस भूतिया जहाज का जिक्र किया है।

सबसे पुराना मौजूदा संस्करण १७९० में जॉन मैकडोनाल्ड द्वारा लिखित किताब है,

जिसमे वो लिखता है कि –: नाविकों ने बताया कि तूफानी मौसम में उन्होंने फ्लाइंग डचमैन को साक्षात देखा था।

ये कहानी इस तरह है कि लबादा ओढे डचमैन को खराब मौसम में अपनी नाव को बंदरगाह तक ले जाने के लिए कोई पायलट नहीं मिला और उसकी नाव खो गई और तबसे खराब मौसम में उसकी झलक नज़र आती है।

अगला संपादित संस्मण १७९५ में जॉर्ज बर्रिन्गटन द्वारा लिखित “न्यू साउथ वैल्स की एक यात्रा” में मिलता है-:

मैंने कभी ऐसे अंधविश्वास पर यकीन नहीं किया पर प्राप्त जानकारी के मुताबिक़ ,

कुछ साल पहले एक डच मैन अपनी नाव समेत समुन्द्र में कहीं खो गया और

उस नाव में से कोई जिन्दा वापिस नहीं बचा और जल्द ही उसके गम में उसकी पत्नी भी मर गई

FLYING DUTCHMAN SHIP

और जहाँ ये हादसा हुआ वहां से गुजरती नावों के नाविकों का कहना है

कि उन्होंने खराब मौसम में किसी को समुन्द्र में देखा,

ये सच था या सिर्फ नाविकों की कल्पना ,ये नहीं पता लेकिन ये खबर जंगल में आग की तरह फ़ैल गई और अब जो भी नाविक वहाँ से गुजरते वे कहते कि रात में या कोहरे में उन्होंने किसी को देखा है,जिसकी एक झलक दिखते ही वो अगले पल गायब हो जाता है।

साक्षत्कार -:

राजा जॉर्ज ५वे ने अपने भाई और कुछ और लोगों के साथ इस जहाज को देखने का दावा किया है –

११ जुलाई १८८० को सुबह ४ बजे फ्लाइंग डचमैन को मैंने,

मेरे भाई ने और कप्तान ने तेज लाल रोशनी में देखा और जब उस भूतिया जहाज को ढूँढा गया तो समुन्द्र में उसका नामो निशान भी नहीं था,

लेकिन फिर से वहीँ पर इस भूतिया जहाज को १०:४५ पर १३ लोगों ने एक साथ देखा।

भ्रम (मिराज़)-:

एक जहाज पर कुछ नाविकों ने कोहरे में कुछ दुरी पर आसमान में एक समुंन्द्री जहाज की उल्टी परछाई देखी ,

जिसे देख कर वो डर गए और उनमे से एक बोला के ये भूतिया जहाज एक अपशगुन है और अब उनमे से कोई भी बंदरगाह तक नहीं पहुँच पायेगा लेकिन उनका कप्तान जो इन बातों में यकीन नहीं करता था उसने बताया के ये कोहरे के कारण बना एक ऑप्टिकल प्रभाव यानि भ्रम है और जब वे लोग तट पर सही सलामत पहुँचे तब उन्हें कप्तान की बातों पर यकीन हुआ और उन्होंने ऐसी बातों पर यकीन ना करने का फैसला किया।

सच चाहें कुछ भी हो लेकिन फ्लाइंग डचमैन की इस छवि को टीवी और फिल्मो में काफी प्रभावी तरीके से इस्तेमाल किया गया है – :

• सोल ईटर नामक प्रोग्राम में फ्लाइंग डचमैन एक भूतिया जहाज की आत्मा है।

FLYING DUTCHMAN SHIP

• स्पाइडर मैन के कार्टून में फ्लाइंग डचमैन को एक खलनायक की तरह पेश किया गया।

जिसे मार कर स्पाइडरमैन गाँव वालो को उसके जुल्मो से आज़ाद करवाता है

• सुपर नेचुरल प्रोगाम में फ्लाइंग डचमैन को एक भूतिया किरदार की तरह पेश किया गया।

टीवी के साथ साथ फिल्मों में भी इसका बखूबी इस्तेमाल हुआ है -:

१९५१ में बनी पैंडोरा एंड द फ्लाइंग डचमैन नामक फिल्म इसी समुद्री लोककथा से प्रेरित है इसमें नायक फ्लाइंग डचमैन है,

जो ग़लतफहमी में अपनी पत्नी को बेवफा समझ कर उसका क़त्ल कर देता है और उसे काला पानी की सज़ा मिलती है लेकिन उसके अच्छे बर्ताव को देखते हुए उसे सात साल में एक बार छ महीने के लिए अपना सच्चा प्यार ढूंढने के लिए रिहा किया जाता है।

ऐज ऑफ़ एम्पायरस कम्प्यूटर गेम में फ्लाइंग डचमैन एक चीट कोड है,

ये एक जहाज है जो जमीन और पानी दोनों में चलता है।

(ये लेख प्राप्त जानकारी के आधार पर लिखा गया है और सत्यता का दावा नहीं करता)

FLYING DUTCHMAN SHIP

2 Replies to “समुन्द्र में उड़ता जहाज – फ्लाइंग डचमैन”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *